Friday, 12 February 2016

वैदिक ऋषि परंपरा के १२ वर्ग

व्यासजी निर्देशित क्रमानुसारी, वेद मंत्र दृष्टा, निरन्तर सात लोकों मे याग-यज्ञ कर रहें १२ वर्गों मे प्रकटित ९ करोड से भी ज्यादा ऋषि मुनियों को प्रणाम ।


No comments:

Post a Comment